Baso Mere Nainan me Nandlaal

Baso Mere Nainan me Nandlaal

0 29

Meerabai poems in hindiबसौ मोरे नैनन में नंदलाल।
मोहनि मूरति, सांवरी सूरति, नैना बने बिसाल।
मोर मुकुट, मकराकृत कुंडल, अस्र्ण तिलक दिये भाल।
अधर सुधारस मुरली राजति, उर बैजंती माल।
छुद्र घंटिका कटि तट सोभित, नूपुर सबद रसाल।
मीरां प्रभु संतन सुखदाई, भगत बछल गोपाल।

Join the House of LOVE, LIFE n LOLZ

SIMILAR ARTICLES