Kedarnath Agarwal

Kedarnath Agarwal

all poems and poetry of Kedarnath Agarwal in Hindi.
Kedarnath Agarwal

0 20
सूर्यास्त मे समा गयीं         सूर्योदय की सड़कें, जिन पर चलें हम तमाम दिन सिर और सीना ताने, महाकाश को भी...
Kedarnath Agarwal

0 34
ओस-बूंद कहती है; लिख दूं नव-गुलाब पर मन की बात। कवि कहता है : मैं भी लिख दूं प्रिय शब्दों में मन...
Kedarnath Agarwal

0 26
कोई नहीं सुनता झरी पत्तियों की झिरझिरी न पत्तियों के पिता पेड़ न पेड़ों के मूलाधार पहाड़ न आग का...
Kedarnath Agarwal

0 75
हवा हूँ, हवा, मैं बसंती हवा हूँ! वही हाँ, वही जो युगों से गगन को बिना कष्ट-श्रम के सम्हाले हुए हूँ; हवा हूँ, हवा,...
Kedarnath Agarwal

0 12
कंकरीला मैदान ज्ञान की तरह जठर-जड़  लम्बा चौड़ा गत वैभव की विकल याद में- बडी दूर तक चला गया है गुमसुम खोया। जहाँ-तहाँ कुछ...
Kedarnath Agarwal

0 33
गुम्बज के ऊपर बैठी है, कौंसिल घर की मैना । सुंदर सुख की मधुर धूप है, सेंक रही है डैना ।। तापस वेश नहीं...