Bihari Satsai

Bihari Satsai

bihari-satsai

0 510
मेरी भव-बाधा हरौ राधा नागरि सोई l जा तन की झाईं परै श्यामु हरित दुति होई ll भव-बाधा = संसार के कष्ट, जन्ममरण का दु:ख नागरि =...